How Organisation Culture Shapes Employee Motivation

Team IIBP Anveshan, Emotional Intelligence, General Psychology, Issue 10, Mental Health

Organizational culture can be a potent source of motivation for your team or an equally powerful hindrance to it. Some view organizational culture as an ethereal force of nature that is troublesome, costly, or impractical to control, so they don’t try. Others oversimplify it, dusting their hands off after a quick ‘about us’ page update. The truth is, it’s both ...

Emerging Hybrid Work Culture and its Future Implications

Team IIBP Anveshan, Emotional Intelligence, General Psychology, Issue 10, Mental Health

What is a Hybrid Workplace Culture?   The hybrid work culture turned out great during the Covid time frame; notwithstanding, their proficiency is yet to be seen during the time of typical business as usual. A hybrid workplace culture incorporates both works from home and works from the workplace climate simultaneously. It offers adaptability to the employees, who have an ...

Are we really Inclusive at Work?

Team IIBP Anveshan, Emotional Intelligence, General Psychology, Issue 10, Mental Health

The moment we hear conversations about Inclusion at work, our first thought goes towards the Inclusion of Women. Whether you look around in most organizations or even at a more granular level within your teams, meetings, you will find women being represented at different hierarchical levels –as peers, juniors, and sometimes as leaders. Moving away to a more general scenario, ...

What makes Indian leadership unique in the world?

Team IIBP Anveshan, Emotional Intelligence, General Psychology, Issue 10, Mental Health

A close look at the nature of leadership in India today surprises everybody that the decisiveness and passion demonstrated by leaders are unique not only in the business but in the political world. Monarchy has become a thing of the past.Today an Indian leader is one who understands the dynamics of the human behaviour in particular situations and does not ...

संगठनात्मक संस्कृति और संगठनात्मक माहोल के बीच अंतर।

Team IIBP Anveshan, Emotional Intelligence, General Psychology, Issue 10, Mental Health

संगठनात्मक संस्कृति और संगठनात्मक माहोल के बीच अंतर। इस लेख में, मेरा इरादा संगठनात्मक संस्कृति औरसंगठनात्मक माहोल के बीच निष्कर्ष निकालना है। अक्सर विद्वानों के साहित्य ने इन दोनों को अलग-अलग संबोधित किया है,  लांकि लीडरओं के लिए यह महत्वपूर्ण है कि संगठनों के यिन और यांग के रूप में संगठनात्मक संस्कृति और माहोल को एकजुट रूप से लाएं। इस ...

महामारी, शिक्षा और मानसिक स्वास्थ्य

Team IIBP Anveshan, Emotional Intelligence, General Psychology, Issue 10, Mental Health

कोविड महामारी ने समाज के हर वर्ग को प्रभावित किया है चाहे वो आर्थिक हो, सामाजिक हो, राजनीतिक हो शैक्षणिक हो या मानसिक हो..समाज के हर पहलू अपने गिरफ्त में इस महामारी ने प्रभावित किया है..कुछ इसी तरह हमारा शैक्षिक तंत्र भी इससे अछूता नहीं रहा ..शिक्षा हमारे समाज का सबसे महत्वपूर्ण अंग है ये हमारा भविष्य तो बनाता ही ...

भारत मे नैतिक नेतृत्व

Team IIBP Anveshan, Emotional Intelligence, General Psychology, Issue 10, Mental Health

भारत मे नैतिक नेतृत्व डा. उषा भारत की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत 5000 साल पुरानी है। हालांकि सभ्यता के चार मुख्य उद्गम हैं जो पूरब से पश्चिम की ओर प्रस्थान करने वाले चीन, भारत, फर्टाइल क्रिसेंट तथा भूमध्य रेखा, विशेष रूप से ग्रीक और इटली हैं, परंतु भारत अधिक श्रेय का हकदार है क्योंकि भारत मे प्रचलित धर्मो और नये धर्मो ...

बेहतर लीडर बनने में क्रिटिकल थिंकिंग यानी आलोचनात्मक सोच की भूमिका

Team IIBP Anveshan, Emotional Intelligence, General Psychology, Issue 10, Mental Health

बेहतर लीडर बनने में क्रिटिकल थिंकिंग यानी आलोचनात्मक सोच की भूमिका सतनाम कौर    बहुत कम लोग जानते हैं कि क्रिटिकल थिंकिंग यानी आलोचनात्मक सोच को वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन ने  जीवन को प्रभावी ढंग से जीने के कौशल की श्रेणीं में रखा हैं। यानी जीवन को अगर बेहतर ढंग से जीना हैं तो यह कौशल बहुत महत्वपूर्ण है। पर सबसे ...

ग्रामीण महिलाएं और उनकी प्रगति

Team IIBP Anveshan, Emotional Intelligence, General Psychology, Issue 10, Mental Health

क्योंकि ग्रामीण भारत से संबंध रखता हूं और मैंने इसका सूक्ष्मता से अवलोकन किया। अतः मैं अपने उसी और दुकान से जगत ज्ञान को रखने को आधुनिक भारतीय महिलाएं यदि शहर शहरी है तो वह बाहर निकल कर नाम कमा रहे हैं अपनी पहचान बना रही है। परंतु ग्रामीण महिलाओं के जीवन से संघर्ष अभी पूरी तरह खत्म नहीं हुआ ...